IVF क्या होता है, और कैसे होता है? – यामी IVF  

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (IVF) एक चिकित्सा प्रक्रिया है जो लाखों जोड़ों के बच्चा पैदा करने का सपने पूरा करने में मदद करती है। भारत में, हर साल 2-2.5 लाख IVF चक्र किए जाते हैं, जिनकी सफलता दर 50%-60% है। 

IVF प्रक्रिया में एक अंडे को प्रयोगशाला में निषेचित करना और उसे गर्भाशय में प्रत्यारोपित करना शामिल है। यह बंद नलियों या फॉलोपियन ट्यूब , पुरुष, महिला या अस्पष्टीकृत निःसंतानता जैसी समस्याओं के लिए प्रभावी है।

इंदौर में यामी IVF, जो उच्च सफलता दर और शीर्ष प्रजनन उपचार के लिए जाना जाता है, आपको माता-पिता बनने के सपने को साकार करने में मदद कर सकता है। 

अगर आप भी निःसंतानता से परेशान हैं, और अपने माता पिता बनने का सपना पूरा करने में असफल हैं, तो यह ब्लॉग आपकी मदद करेगा। IVF क्या है और कैसी किया जाता है की जानकारी के लिए नीचे स्क्रॉल करें! 

IVF क्या होता है? (What is IVF?)

IVF , या इन विट्रो फर्टिलाइजेशन, एक चिकित्सा प्रक्रिया है जहां एक अंडे को शरीर के बाहर शुक्राणु द्वारा निषेचित किया जाता है, आमतौर पर एक प्रयोगशाला डिश में। शब्द “इन विट्रो” का अर्थ है “ग्लास में”, पेट्री डिश जहां यह होता है। 

IVF उन जोड़ों की मदद करती है जिन्हें स्वाभाविक रूप से गर्भधारण करने में परेशानी होती है, जैसे कि अवरुद्ध फैलोपियन ट्यूब, कम शुक्राणु संख्या, ओव्यूलेशन विकार, या अस्पष्टीकृत निःसंतानता वाले जोड़े।

नियंत्रित वातावरण में अंडे और शुक्राणु को मिलाकर, IVF, निषेचन और सफल गर्भावस्था की संभावना को बढ़ाता है। 

एक बार निषेचित होने के बाद, भ्रूण को प्राकृतिक रूप से विकसित होने के लिए महिला के गर्भाशय में प्रत्यारोपित किया जाता है। डिम्बग्रंथि (ओवेरियन) उत्तेजना से लेकर भ्रूण स्थानांतरण तक पूरी IVF  प्रक्रिया में आमतौर पर लगभग 4 से 6 सप्ताह लगते हैं।

IVF कैसे किया जाता है? (How is IVF Done?)

IVF की प्रक्रिया के मुख्य 7 चरण होते है जो निम्न प्रकार है।

1. डिम्बग्रंथि उत्तेजना (Ovarian Stimulation) 

डिम्बग्रंथि उत्तेजना IVF का पहला चरण है, जिसमें अंडाशय को कई अंडे पैदा करने के लिए प्रोत्साहित करने वाली दवाओं का उपयोग शामिल है। यह प्रक्रिया महिला द्वारा लगभग 10-14 दिनों तक रोजाना हार्मोनल इंजेक्शन लेने से शुरू होती है।

ये दवाएं अंडाशय को उत्तेजित करती हैं, जो आम तौर पर प्रति चक्र एक अंडा पैदा करती है, जिससे कई परिपक्व अंडे विकसित होते हैं, जिससे सफल निषेचन की संभावना बढ़ जाती है। 

डिम्बग्रंथि उत्तेजना सुनिश्चित करती हैं कि पुनर्प्राप्ति और निषेचन के लिए IVF प्रक्रिया के दौरान अधिक अंडे उपलब्ध हों।

2. अंडा पुनर्प्राप्ति (Egg Retrieval)

अंडे पुनर्प्राप्ति एक छोटी चिकित्सा प्रक्रिया है जो अंडे परिपक्व होने के बाद की जाती है। यह चरण किसी क्लिनिकल सेटिंग या अस्पताल में किया जाता है।

अल्ट्रासाउंड मार्गदर्शन और हल्के एनेस्थीसिया के साथ, डॉक्टर अंडाशय से अंडे इकट्ठा करने के लिए एक पतली सुई का उपयोग करते हैं। 

फॉलिक्युलर एस्पिरेशन के रूप में जानी जाने वाली इस प्रक्रिया में आमतौर पर लगभग 30 मिनट से 1 घंटे तक का समय लगता है। एकत्र किए गए अंडों को IVF प्रक्रिया के अगले चरण के लिए तैयार किया जाता है।

3. शुक्राणु संग्रह (Sperm Collection) 

शुक्राणु संग्रह उसी दिन किया जाता है जिस दिन अंडा पुनर्प्राप्ति की जाती है। शुक्राणु का नमूना आमतौर पर पुरुष साथी या दाता से हस्तमैथुन के माध्यम से एकत्र किया जाता है, जिसे क्लिनिक या अस्पताल के एक निजी कमरे में किया जाता है।

कुछ मामलों में, यदि आवश्यक हो, तो शुक्राणु को शल्य चिकित्सा द्वारा पुनः प्राप्त किया जा सकता है। 

एकत्र किए गए शुक्राणु को फिर प्रयोगशाला में तैयार किया जाता है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सर्वोत्तम गुणवत्ता वाले शुक्राणु का उपयोग किया जाए।

4. निषेचन (Fertilisation)

निषेचन में प्रयोगशाला डिश में तैयार शुक्राणु के साथ प्राप्त अंडों को मिलाना शामिल है। यह चरण IVF प्रयोगशाला में किया जाता है, जहां निषेचन का समर्थन करने के लिए स्थितियों को सावधानीपूर्वक नियंत्रित किया जाता है। 

निषेचन स्वाभाविक रूप से, या इंट्रासाइटोप्लाज्मिक स्पर्म इंजेक्शन (ICSI) नामक प्रक्रिया के माध्यम से हो सकता है, जहां एक शुक्राणु को सीधे अंडे में इंजेक्ट किया जाता है। यह चरण अंडे और शुक्राणु एकत्र होने के कुछ घंटों के भीतर होता है।

5. भ्रूण संस्कृति (Embryo Culture) 

भ्रूण संवर्धन (embryo culture) वह चरण है जहां निषेचित अंडे, जो अब भ्रूण बन चुके हैं, की प्रयोगशाला में 3-5 दिनों तक निगरानी की जाती है।

इस अवधि के दौरान, उचित विकास सुनिश्चित करने के लिए भ्रूण के विकास पर बारीकी से नजर रखी जाती है। फिर सबसे स्वस्थ भ्रूण को गर्भाशय में स्थानांतरण के लिए चुना जाता है। 

यह सावधानीपूर्वक निगरानी और चयन प्रक्रिया केवल सर्वोत्तम गुणवत्ता वाले भ्रूण का उपयोग सुनिश्चित करके सफल गर्भावस्था की संभावनाओं को बढ़ाने में मदद करती है।

6. भ्रूण स्थानांतरण (Embryo Transfer) 

भ्रूण स्थानांतरण में एक पतली कैथेटर का उपयोग करके महिला के गर्भाशय में एक या अधिक स्वस्थ भ्रूण डालना शामिल है। यह सीधी प्रक्रिया, जिसमें एनेस्थीसिया की आवश्यकता नहीं होती है, आमतौर पर लगभग 5-10 मिनट लगते हैं।

इस प्रक्रिया का लक्ष्य यह है कि भ्रूण गर्भाशय की परत में प्रत्यारोपित हो जाए और गर्भावस्था में विकसित होना शुरू कर दे।

7. प्रत्यारोपण और गर्भावस्था (Implantation and Pregnancy) 

भ्रूण स्थानांतरण के बाद, महिला गर्भाशय की परत को सहारा देने और भ्रूण को प्रत्यारोपण के लिए प्रोत्साहित करने के लिए दवा लेती है।

यह निर्धारित करने के लिए कि क्या प्रत्यारोपण सफल था और क्या गर्भावस्था स्थापित हो गई है, लगभग दो सप्ताह बाद गर्भावस्था परीक्षण किया जाता है।

यह प्रतीक्षा अवधि महत्वपूर्ण है क्योंकि यह संपूर्ण आईवीएफ प्रक्रिया की सफलता को निर्धारित करती है।

Read Also: Success Rate of IVF after Multiple IUI Failure

निष्कर्ष (Conclusion)

डिम्बग्रंथि उत्तेजना (ovarian stimulation) से लेकर भ्रूण स्थानांतरण (embryo transfer) तक IVF प्रक्रिया में लगभग 4 से 6 सप्ताह लगते हैं।

सफल गर्भावस्था की संभावना को अधिकतम करने के लिए प्रत्येक चरण की सावधानीपूर्वक निगरानी की जाती है।

यामी IVF, इंदौर के शीर्ष प्रजनन केंद्रों में से एक, उच्च सफलता दर के साथ व्यापक IVF उपचार प्रदान करता है, जिससे जोड़ों को माता-पिता बनने के अपने सपने को हासिल करने में मदद मिलती है।

हमारे अनुभवी डॉक्टर इष्टतम परिणाम सुनिश्चित करते हुए, आपकी आवश्यकताओं के लिए सर्वोत्तम उपचार योजनाएँ तैयार करते हैं। 

अपनी प्रजनन यात्रा के हर चरण में आपका मार्गदर्शन करने के लिए यामी IVF पर भरोसा करें। अधिक जानकारी के लिए और हमारे विशेषज्ञों से परामर्श करने के लिए, Yaami IVF Centre पर जाएँ! 

Read Also: IVF Facts vs IVF Myth

Q1. IVF क्या है और कैसे होता है? 

IVF, या इन विट्रो फर्टिलाइजेशन, एक चिकित्सा प्रक्रिया है जिसमें अंडे को शरीर के बाहर शुक्राणु के साथ निषेचित किया जाता है। इसमें डिम्बग्रंथि उत्तेजना, अंडा पुनर्प्राप्ति, शुक्राणु संग्रह, निषेचन, भ्रूण संस्कृति और भ्रूण स्थानांतरण के चरण शामिल हैं। IVF उन जोड़ों की मदद करता है जिन्हें स्वाभाविक रूप से गर्भधारण करने में परेशानी होती है, और इसके परिणामस्वरूप स्वस्थ गर्भावस्था प्राप्त करने की संभावना बढ़ जाती है।

Q2. आईवीएफ कितने दिन का होता है? 

IVF प्रक्रिया में आमतौर पर 4 से 6 सप्ताह का समय लगता है। यह समय डिम्बग्रंथि उत्तेजना से शुरू होकर भ्रूण स्थानांतरण और गर्भावस्था परीक्षण तक की पूरी प्रक्रिया को कवर करता है। इस दौरान विभिन्न चरणों में चिकित्सा जांच और उपचार होते हैं।

Q3. आईवीएफ के लिए सही उम्र क्या है?

 IVF के लिए सही उम्र आमतौर पर 35 वर्ष से कम होती है, क्योंकि इस उम्र में अंडों की गुणवत्ता और संख्या बेहतर होती है। हालांकि, 40 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं के लिए भी IVF संभव है, लेकिन सफलता दर कम हो सकती है और अधिक चिकित्सा सहायता की आवश्यकता हो सकती है।

Q4. एक महिला कितनी बार आईवीएफ करवा सकती है? 

एक महिला कितनी बार IVF करवा सकती है, यह उसकी चिकित्सा स्थिति और चिकित्सक की सलाह पर निर्भर करता है। आमतौर पर, कई IVF चक्रों की सिफारिश की जाती है, क्योंकि पहली बार में सफलता की गारंटी नहीं होती है। हर चक्र के बीच में उचित अंतराल होना चाहिए ताकि शरीर ठीक हो सके और अगला चक्र शुरू करने के लिए तैयार हो।

Related Post

ovulation kya hota hai

Ovulation Kya Hota Hai Aur Ovulation ke Lakshan?

अपने मासिक धर्म चक्र को समझना और ओव्यूलेशन के संकेतों को पहचानना आपके गर्भधारण की संभावनाओं को काफी हद तक बढ़ा सकता है। ओव्यूलेशन प्रजनन

Read More »
PCOD Problem Symptoms in Hindi

PCOD Problem Symptoms in Hindi

WHO की एक रिपोर्ट  में सामने आया है कि प्रजनन आयु की 5% से 10% महिलाएं, 15 से 44 वर्ष के बीच, PCOD से प्रभावित

Read More »

Book Free Consultation

We are here for you